Tuesday, April 5, 2016

इतना रहे ख्याल .....


स्त्री विमर्श दो स्तरों पर सामने आता है। एक सामाजिक स्तर पर व दूसरा पारिवारिक स्तर पर । दोनों ही स्तरों पर अपनी-अपनी तरह से काफी आंदोलन हुए हैं तथा चल रहे हैं । सामाजिक स्तर पर जंहा स्त्री के राजनैतिक,व्यवसायिक व समाज से जुड़ें हक़ों के मुद्दे हैं। तो पारिवारिक स्तर पर घर में उसका स्थान व् उसके साथ किया जा रहा व्यवहार महत्वपूर्ण है। अगर हम पारिवारिक स्तर पर बात करें तो आखिर इस पूरे प्रकरण में अपने हक़ों तथा किसी भी प्रकार के दुर्व्यवहार के लिए भय या असुरक्षा हमें पुरुष के ही किसी रूप से है। 

यह एक मूक व सतत आंदोलन भी रहा है । हमारे पास आज बहुत सारे अधिकार हैं । जो हमें पिछली आंदोलनरत पीढ़ियों की मुखरता ने प्रदान किये हैं। ये रातों रात होने वाला परिवर्तन नहीं है । हम आज अपनी आवाज़ मुखर करते हैं तो हमें सकारात्मक परिवर्तन मिलने में समय लगेगा । हम उसका फायदा कम या बिलकुल न उठा पाएं ऐसा हो सकता है किन्तु आने वाली पीढ़ियां उस परिवर्तन से जरूर लाभान्वित होती हैं। 
ये सही है की हर नयी पीढ़ी के लिए आज़ादी के मायने बदल जाते हैं। पर ये भी सही है कि अपनी हद और जद अब हमें खुद ही निर्धारित करनी होंगी । अपने अधिकारों का उपभोग करते हुए अब हमे थोड़ी चतुरता से काम लेना होगा। 

किसी भी समाज में आने वाला परिवर्तन उसके प्राणियों की सोच पर निर्भर करता है और उनकी सोच को प्रभावित करने वाले दो कारक धर्म व दर्शन हैं ।  धर्म व् दर्शन को बदलना तो संभव नहीं पर धर्म व् दर्शन की शिक्षा को देशकाल व आज की आवश्यकता अनुरुप ग्रहण करने का, समझने का, परिवर्तन यदि आ जाये तो काफी हद तक स्त्री के प्रति समाज व परिवार के नजरिये को बदला जा सकता है। 

ये हम महिलाओं पर भी निर्भर करता है कि हम जो हमे मिला है उसका सदुपयोग करें और जो चाहिये उसके लिए सजग रहें । ताकि आने वाली पीढ़ियों के लिए एक ऐसा समाज रच सकें जिसकी सोच प्रारंभिक स्तर से ही भिन्न हो । 

यह परिवर्तन परिवार के स्तर से शुरू कर दिया जाये तो आशा की जा सकती है कि फल सकारात्मक होगा । हमारे यंहा परिवार के पालन-पोषण की जिम्मेदारी माँ पर होती है । यदि हर माँ अपने बच्चे को शुरू से ही स्त्रिओं का आदर करना सिखाए व परिवार के बच्चों के बीच किसी भी तरह का भेदभाव न करे तथा न उसे बढ़ावा दे तो निश्चय ही आने वाली पीढ़ी एक जागरुक व समानता के हामी नागरिकों की स्वतः ही होगी । 

ये चतुराई हम महिलाओं को ही अब करनी होगी । अपने परिवार में तो हम इसके सकारात्मक परिवर्तन पाएंगे ही अपितु समाज पर भी इसका अच्छा प्रभाव पड़ेगा |
ये सही है कि ये कहना जितना आसान है करना उतना सरल नहीं है क्योंकि एक स्त्री पर एक तो बहुत सारे सामाजिक दबाव होते हैं, सदियों से चली आ रही रूढ़िवादी परम्पराएं भी हैं। जो उसे खुद को खुद की बनाई बेड़ियों में जकड़ने का काम करती हैं । जिससे कंई  बार वह स्वयं अपनी ही जाति के विरुद्ध होती है । 

किन्तु फिर भी ये प्रयास धीरे-धीरे ही सही कम-कम ही सही एक बड़ा परिवर्तन लान में सफल होगा । घड़ा बूंद-बूंद से ही भरता है। 
स्त्री को अब जरुरत अपने हक़ों को चिल्ला कर मांगने की ही नहीं उसे खुद के स्तर पर परिवर्तन लाने की भी है। न तो यह वक़्त अपने हक़ों के लिए सजग ना रहने का है ना सिर्फ़ और सिर्फ़ चिल्लाने का । 
हमे अपनी निरंतरता और तटस्थता कायम रखनी है, ये नहीं कि किसी भी पारिवारिक बहस के दौरान हमें सारा स्त्री-विमर्श याद आ जाये और दूसरे ही पल हम अपनी इच्छा से त्याग की मूर्ति,पाँव की जुती बन स्वयं को कृतार्थ मानें । मौके हम स्वयं भी  देते हैं । गलत को गलत हर हाल में कहना ही होगा। उसे प्यार या फ़र्ज़ का नाम देकर सही सिद्ध करने की आदत हमें भी छोड़नी होगी । 
                                                                                                                                                                               पारुल सिंह  
-- 
parul singh

Tuesday, February 16, 2016

किताब "101 किताबें गजलों की " लेखक : नीरज गोस्वामी


अभी कुछ दिनों पहले रेख्ता के प्रोग्राम जश्न ए रेख्ता में जावेद अख्तर जी को उर्दू,लेखन,ग़ज़ल आदि पर विस्तार से सुनने का मौका मिला। उन्होंने एक बात बहुत अच्छी कही कि अपना एक शेर कहने से पहले आपको ज्यादा नहीं तो कम से कम पांच सौं शेर तो औरों के याद हों।

शायरी ही क्यूँ ये बात लेखन की हर विधा पर लागू होती है। किताबें आपकी सोच को नये आयाम देती हैं आपके दृष्टिकोण के दायरे को बढ़ाती हैं। शायरी पढ़ने और लिखने वालों के लिए "101 किताबें गजलों की" ऐसी ही एक किताब है।

सुविख्यात शायर नीरज गोस्वामी जी की लिखी इस किताब में उन्होंने नए व पुराने 101 शायरों की किताबों को सम्मलित किया है । इन किताबों व इन के शायरों पर नीरज जी ने खुल कर चर्चा की है।

इस किताब में एक जगह नीरज जी लिखते हैं,"किताबें हमें हमेशा कुछ न कुछ देती हैं बिना बदले में हम से कुछ भी लिए ..... इसलिए मैं हमेशा आग्रह करता हूँ के अपनी दुनिया में किताबों को जगह दो। 

जिनको आपने अब तक जगह दे रखी है उन्हे वंही रहने दो लेकिन किताबों के लिए भी थोड़ी सी जगह बना लो। आज माना आप बहुत व्यस्त हैं आपके ढेर मित्र हैं,नाते, रिश्तेदार है, ज़िम्मेदारियाँ हैं , सामने बड़े बड़े टार्गेट हैं, पैसा कमाने की होड़ है लेकिन ये स्थिति हमेशा नही रहेगी।

 एक दिन आप तन्हा होंगे एक दम तन्हा..... इतने तन्हा के सन्नाटा बोला करेगा और आप उसे सुन कर डरेंगे तब आपको किताबें सहारा देंगी। सन्नाटों को संगीत के सातों सुरों से भर देंगी। सूखे पेड़ों पर हरी पत्तियाँ ले आएगी । उन पर फिर से फूल खिला देंगी।"

खास बात ये है कि इस किताब में जिन शायरों की किताबों का जिक़्र किया गया है उन में से ज्यादातर बहुत प्रसिद्द नाम नहीं हैं । पर इस से उनकी शायरी को कमतर ना आँका जाये । बल्कि सभी शायरों की शायरी हैरान करने वाली है,पढ़ कर अहसास होता है कि साहित्य सेवा करने वाले बहुत से लोग इस बात की चिंता नहीं करते कि उनका नाम हो रहा है अथवा नहीं । वो तो बस पूरी निष्ठा से कर्त्तव्य पथ पर अग्रसर रहते हैं और कुछ के लिये ये स्वात सु:खाय है तो भी उनकी शायरी स्वयं बताती है कि वे किस पाए के शायर हैं। 

इस किताब में नीरज जी कहते हैं कि,"दोस्तों देश में न जाने कितने शायर हैं और न जाने शायरी की कितनी किताबें छपती हैं । हमें सिर्फ उन्ही किताबों का पता चल पाता है जिन्हें नामचीन प्रकाशक छापते हैं या फिर जिनकी चर्चा अख़बार या मैगजीन में होती है । बहुत कम ऐसा होता है कि आपको एक अपरिचित प्रकाशक की कोई ऐसी किताब मिले जिसमें चौंका देने वाले शेरो की भरमार हो और जिसे लिखा भी किसी नामवर शायर ने ना हो । मेरा नाम आप ऐसे ही खुशकिस्मत पाठकों में आप दर्ज़ कर सकते हैं जिसके पास शायरी की एक ऐसी ही अनूठी किताब है। "

एक और जगह नीरज जी कहते हैं कि "मुझे अनजान शायरों को पढ़ने में पड़ा मज़ा आता है क्यूंकि आप नहीं जानते कि कैसे हैं, कैसा लिखते है,क्या सोचते हैं याने आपके मन में उनकी कोई पूर्व छवि बनी नहीं होती । आप उन्हें निष्पक्ष होकर पढ़ते हैं इसी में मज़ा आता है ।"
"101 किताबें गजलों की" में लेखक ने संकलित किताबों के शायरों के साहित्यिक व व्यक्तिगत जीवन के विषय में भी ऱोचक जानकारियाँ दी हैं । 
ये किताब आपको ख़ोज,रूपये व पढ़ने में लगने वाले समय जैसे जोखिमों से बचाते हुए ऐसी किताबों से रूबरू होने का अवसर प्रदान कराती है जिन्हें आप बार बार पढ़ना चाहेंगे । 

आप अपनी पसंद की किताबें छांट कर मँगवा सकते हैं । किताबो के प्रकाशकों व ज्यादातर शायरों के फ़ोन नंबर व पते की जानकारी व किताब प्राप्ति के तरीक़े भी नीरज जी ने अपनी इस किताब में दिए हैं । आप किताब के बारे में पढ़ कर शायर स्वयं को दाद देना चाहें तो फ़ोन कर दे सकते हैं । 

शायरी प्रेमियों के पास शायरी से सम्बंधित ये क़िताब आवश्यक व संग्रहणीय है । इसमें शायरी पर  किताबों के शायरों के निजी विचार, किताबों की भूमिका में उल्लेखित गुणीजनों के उद्गार व नीरज जी के निजी विचार भी आपको पढ़ने को मिलते हैं ।  101 किताबें गजलों की के प्रकाशक शिवना प्रकाशन सिहोर मध्य प्रदेश हैं । 
"101 किताबें गजलों की" को प्राप्त करने के निम्नलिखित तरीक़े हैं......  

1. आप नीरज जी को उनके मोबाइल नंबर 9860211911 पर फ़ोन कर उन से किताब भेजने का आग्रह कर सकते हैं ।  ऐसा आप उन्हें उनके ई -मेल आई डी  neeraj1950@gmail.com पर मेल कर भी कर सकते हैं । आप फेसबुक पर भी नीरज जी से संपर्क कर सकते हैं -- https://www.facebook.com/neeraj.goswamy.16

2 शिवना प्रकाशन से फेसबुक फ़ोन व डाक पर संपर्क कर भी यह किताब मंगवायी जा सकती है । 

  शिवना प्रकाशन 
                   पी. सी. लैब, सम्राट कॉम्प्लेक्स बेसमेंट 
                    बस स्टैंड , सीहोर - 466001 (म. प्र.)
                     फ़ोन : 07562 - 405545, 0762 - 695918 
                     E-mail: shivna.prakashan@gmail.com 

https://www.facebook.com/shivna.prakashan?pnref=friends.search

3  शिवना प्रकाशन से प्रकाशित नीरज गोस्‍वामी की पुस्‍तक चर्चा पर विशेष पुस्‍तक 101 किताबें ग़ज़लों की अब दो अन्‍य प्रमुख ऑनलाइन स्‍टोर्स पर भी उपलब्‍ध है। 
https://paytm.com/…/101-kitaben-ghazlon-ki-9789381520277_11…
http://www.flipkart.com/item/9789381520277

                                                                                                               पारुल सिंह